बातें जो जीवन रेखा देखकर मालूम हो सकती हैं

हथेली में सामान्यत: तीन रेखाएं मुख्य रूप से दिखाई देती हैं। ये तीन रेखाएं जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और हृदय रेखा है। इनमें से जो रेखा अंगूठे के ठीक नीचे शुक्र पर्वत को घेरे रहती है, वही जीवन रेखा कहलाती है। यह रेखा इंडेक्स फिंगर के नीचे स्थित गुरु पर्वत के आसपास से प्रारंभ होकर हथेली के अंत मणिबंध की ओर जाती है। छोटी जीवन रेखा कम उम्र और लंबी जीवन रेखा लंबी उम्र की ओर इशारा करती है। यदि जीवन रेखा टूटी हुई हो तो यह अशुभ होती है, लेकिन उसके साथ ही कोई अन्य रेखा समानांतर रूप से चल रही हो तो इसका अशुभ प्रभाव नष्ट हो सकता है।

रंग भरी शुभकामनाएँ

होली आई, सतरंगी रंगों की बौछार लायी; ढेर सारी मिठाई और मीठा-मीठा प्यार लायी; 
आप की ज़िंदगी हो मीठे प्यार और खुशियों से भरी;जिसमें समाए सातों रंग, यही शुभकामनाएं हैं हमारी।
आपको सहपरिवार होली के पावन पर्व की हार्दिक बधाई एवं रंग भरी शुभकामनाएँ........

कुलदीप खन्ना ( ज्योतिषाचार्य, हस्तरेखा,वास्तु परामर्शदाता )

बरेली यू.पी  मो. 9358611969,9258178497                  

इमेल - [email protected]                                

होली के रंग किस राशि के संग?

होली के रंग किस राशि के संग?

Kuldeep Khanna: होली के रंग किस राशि के संग?

मेष व वृश्चिक : लाल, केसरिया व गुलाबी गुलाल का टीका लगाएं व लगवाएं और काले व नीले रंगों से बचें।

वृष व तुला : आपको सफेद, सिल्वर, भूरे, मटमैले रंगों से होली क्रीड़ा भाएगी। हरे रंगों से बचें।

मिथुन व कन्या : हरा रंग आपके मनोकूल रहेगा। लाल, संतरी रंगों से बचें।

कर्क : पानी के रंगों से इस होली पर बचें। आसमानी या चंदन का तिलक करें या करवाएं। काले, नीले रंगों से परहेज रखें।